Judge Kaise bane in Hindi – आसान भाषा में समझिये

दोस्तों, यदि आप आगे चलकर कानून की पढ़ाई करना या किसी भी कोर्ट में एक judge बनना चाहते हैं तो आज मैं आपको बताऊंगा की आप Judge kaise bane In hindi बहुत ही आसान भाषा में |

किसी भी कोर्ट का judge बनने से पहले आपको एक law की डिग्री लेनी होगी |

Law की डिग्री आप 2 तरीकों से ले सकते हो :-

पहला :- 12th के बाद Integrated कोर्स (B.A.LL.B.) करके जो की 5 साल का होता है |

दूसरा :- ग्रेजुएशन करने के बाद LL.B. की डिग्री जो की 3 साल की होती है |

judge बनते वक़्त आपका कॉलेज नहीं, आपकी नॉलेज देखी जाती है, बस आपका कॉलेज BCI (Bar Council ऑफ़ इंडिया) Approved होना चाहिए |

Judge Kaise bane in Hindi


LL.B. की डिग्री लेने के बाद आप 4 तरीकों से 4 अलग-अलग levels या courts में जज (judge) बन सकते हो |

  • सबसे पहले आप Magistrate/Civil (सिविल)  जज (judge) बन सकते हो
  • उसके बाद Addition District & Session judge {ADJ} (अपर जिला एंव सत्र न्यायधीश जज (judge) बन सकते हो |
  • इससे बड़े level पर High कोर्ट के जज (judge) बन सकते हो |
  • और सबसे बड़े सुप्रीम कोर्ट के जज (judge) बन सकते हो |

Law की डिग्री पूरी कर लेने के तुरंत बाद आप सिविल judge का एग्जाम दे सकतें है |

अब हम एक एक कर के चारों levels की बात करेंगे की कैसे आप सिविल, डिस्ट्रिक्ट, हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट के जज (judge) बन सकते हो |

 


Magistrate/Civil (सिविल)  जज (judge) कैसे बनें

योग्यता

  1. उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए |
  2. उम्मीदवार की आयु 23 वर्ष से अधिक एंव 35 वर्ष से कम होनी चाहिए, (SC/ST/OBC वा अन्य आरक्षित वर्ग को आयु में छुट मिलती है )
  3. उम्मीदवार के पास मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री होनी चाहिए |

भर्ती प्रक्रिया 

  • सिविल जज की भर्ती सामान्यता: राज्य की हाई कोर्ट (High Court) निकालती है |
  • सबसे पहले प्रारम्भिक परीक्षा होती है जिसमे Objective type सवाल पूछे जाते है |
  • उसके बाद मुख्य परीक्षा होती है जो की एक लिखित परीक्षा है जिसमे कानून और जनरल नॉलेज से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं |
  • सबसे अंत में आपका साक्षात्कार (Interview) होता है

सुविधायें 

  • सरकारी बंगला
  • सरकारी गाड़ी साथ में एक चालक (Driver)
  • मुफ्त टेलीफोन सुविधा
  • मुफ्त बिजली सुविधा
  • मुफ्त जल सुविधा
  • रसोइया (Cook)

तनख्वाह (Salary)

  • हर राज्य के सिविल जज का मूल वेतन बराबर होता है |
  • Gross सैलरी रहती है लगभग 80,000*/- रूपए और Net सैलरी रहती है लगभग 60,000*/- रूपए | *(अलग अलग राज्य में अलग अलग सैलरी हो सकती है )

अपर जिला एंव सत्र न्यायधीश (ADJ) का जज (judge) कैसे बनें

योग्यता

  • उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए |
  • उम्मीदवार की आयु 35 वर्ष से अधिक एंव 45 वर्ष से कम होनी चाहिए, (SC/ST/OBC वा अन्य अरक्षित वर्ग को आयु में छुट)
  • उम्मीदवार के पास मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री होनी चाहिए |
  • उम्मीदवार के पास कम से कम 7 साल के वकालत का अनुभव (Experience) होना चाहिए |

भर्ती प्रक्रिया 

  • सिविल जज की भर्ती सामान्यता: राज्य की हाई कोर्ट (High Court) निकालती है |
  • सबसे पहले प्रारम्भिक परीक्षा होती है जिसमे Objective type सवाल पूछे जाते है |
  • उसके बाद मुख्य परीक्षा होती है जो की एक लिखित परीक्षा है जिसमे कानून और जनरल नॉलेज से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं |
  • सबसे अंत में आपका साक्षात्कार (Interview) होता है

सुविधायें 

  • सरकारी बंगला
  • सरकारी गाड़ी साथ में एक चालक (Driver)
  • मुफ्त टेलीफोन सुविधा
  • मुफ्त बिजली सुविधा
  • मुफ्त जल सुविधा
  • रसोइया (Cook)
  • सुरक्षा प्रहरी (Security Guard)

तनख्वाह (Salary)

  • हर राज्य के अपर जिला एंव सत्र न्यायधीश के जज का मूल वेतन बराबर होता है |
  • Gross सैलरी रहती है लगभग 1,40,000*/- रूपए और Net सैलरी रहती है लगभग 1,05,000*/- रूपए | *(अलग अलग राज्य में अलग अलग सैलरी हो सकती है )

High Court (उच्च न्यायलय) का जज (judge) कैसे बनें

योग्यता

  • उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए |
  • वह भारत के किसी भी न्यायलय में 10 वर्ष या उससे अधिक अवधि के लिए न्यायिक अफसर (जज) रहा हो ; या
  • भारत के उच्च न्यायलय (high कोर्ट) या सुप्रीम कोर्ट में 10 वर्ष की वकालत का अनुभव हो |

नियुक्ति प्रक्रिया 

  • हाई कोर्ट के judges की नियुक्ति भारत के संविधान के अनुच्छेद 217 के अनुसार होती है |
  • हाई कोर्ट के जज की नियुक्ति Collegium System से होती है |
  • Collegium एक body है जो हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट के जजों के लिए उम्मीदवारों के नामों की सिफारिश सरकार को करती है |
  • हाई कोर्ट के जज की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति करते है |

सुविधायें 

  • सरकारी बंगला
  • सरकारी गाड़ी साथ में एक चालक (Driver)
  • मुफ्त टेलीफोन सुविधा
  • मुफ्त बिजली सुविधा
  • मुफ्त जल सुविधा
  • रसोइया (Cook), Peon और एक Servant
  • स्पेशल सिक्यूरिटी एक Gunman के साथ
  • पेंशन और मेडिकल फैसिलिटी
  • टोल और इनकम टैक्स में छुट
  • यातायात भत्ता

तनख्वाह (Salary)

  • भारत में सभी हाई कोर्ट के जज की सैलरी बराबर होती है |
  • सैलरी The High Court Judges (Salaries and Conditions of Service Act, 1954) के अनुसार मिलती है |
  • सरकारी इस एक्ट में समय समय पर संसोधन करके जजों की तनख्वाह बढ़ाती है |
  • Gross सैलरी रहती है लगभग 3,45,000*/- रूपए और Net सैलरी रहती है लगभग 2,85,000*/- रूपए | *(अलग हो सकती है यदि HRA claim नहीं किया हो तो )

सुप्रीम कोर्ट का जज (judge) कैसे बनें

योग्यता

  • उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए |
  • वह भारत के किसी भी हाई कोर्ट में 5 वर्ष या उससे अधिक अवधि के लिए (जज) रहा हो ; या
  • भारत के उच्च न्यायलय (high कोर्ट) या सुप्रीम कोर्ट में 10 वर्ष की वकालत का अनुभव हो |
  • भारत के राष्ट्रपति के अनुसार प्रतिष्ठित विधि का ज्ञाता (कानून का बहुत अच्छा ज्ञान रखने वाला) हो |

नियुक्ति प्रक्रिया 

  • सुप्रीम कोर्ट के जज की नियुक्ति (Appointment) भारत के संविधान के अनुच्छेद 124(2) के अनुसार होती है |
  • सुप्रीम कोर्ट के जज की नियुक्ति Collegium System से होती है |
  • Collegium एक body है जो हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट के जजों के लिए उम्मीदवारों के नामों की सिफारिश भारत सरकार को करती है |
  • सुप्रीम कोर्ट के जज की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति करते है |

सुविधायें 

  • सरकारी बंगला
  • सरकारी गाड़ी साथ में एक चालक (Driver)
  • मुफ्त टेलीफोन सुविधा
  • मुफ्त बिजली सुविधा
  • मुफ्त जल सुविधा
  • रसोइया (Cook), Peon और एक Servant
  • स्पेशल सिक्यूरिटी एक Gunman के साथ
  • पेंशन और मेडिकल फैसिलिटी
  • टोल और इनकम टैक्स में छुट
  • यातायात भत्ता

तनख्वाह (Salary)

  • भारत में सभी हाई कोर्ट के जज की सैलरी बराबर होती है |
  • सैलरी The Supreme Court Judges (Salaries and Conditions of Service Act, 1958) के अनुसार मिलती है |
  • सरकारी इस एक्ट में समय समय पर संसोधन करके जजों की तनख्वाह बढ़ाती है |
  • Gross सैलरी रहती है लगभग 3,85,000*/- रूपए और Net सैलरी रहती है लगभग 3,15,000*/- रूपए | *(अलग हो सकती है यदि HRA claim नहीं किया हो तो )

जानें पढ़ाई करने का सबसे बहतरीन तरीका जिससे productivity कई गुना बढ़ जाएगी |

आशा करता हूँ दोस्तों की ये आर्टिकल Judge Kaise bane in Hindi आपको पसंद आया होगा जिसको मैंने बहुत ही आसान भाषा में समझाने का प्रयास किया है |

इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें |

www.speakingkitaab.com पर visit करने और इस आर्टिकल को पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

Leave a Comment