अमीर vs गरीब

अमीर और गरीब की सोच में क्या अंतर होता है ? रिच डैड पुअर डैड book in हिंदी

क्या आप भी अमीर बनना चाहते हो ?

आपका उत्तर होगा हाँ भाई, आखिर अमीर कौन नहीं बनना चाहता है ?

हम स्कूल इसलिए जाते है ताकि वंहा से पढ़-लिख कर पैसे कमा सके, लेकिन अफ़सोस की बात है, की स्कूल में कभी भी पैसो के बारे में नहीं सिखाया जाता है |

कोई भी इंसान गरीब या अमीर पैदा नहीं होता है लेकिन ये हमारी सोच पर निर्भर करता है की हमें अमीर बनना है या गरीब रहना है |

रिच डैड पुअर डैड किताब हमें सिखाती है की अमीर और गरीब की सोच में अंतर होता है जिसकी वजह से आज दुनिया में अमीर ओर अमीर होता जा रहा है लेकिन गरीब हमेशा गरीब ही रह जाता है |

ये किताब हर उस इंसान को पढनी चाहिए जो अमीर होना चाहता है और ये जानना चाहता है की अमीर लोग आखिर कैसे सोचते है और उनके दिमाग में पैसो को लेकर कैसे विचार होते है ?

तो चलिए सीखते है  रिच डैड पुअर डैड किताब की कुछ बेहतरीन बातें |


1. अमीर (रिच) और गरीब (पुअर) की सोच

रिच डैड पुअर डैड | rich dad poor dad

जो हमारी सोच में होता है उसी तरीके से हम काम करते है, एक अमीर और गरीब व्यक्ति के पैसो से ज्यादा उनकी सोच में अंतर होता है |

हमें स्कूल में कभी नहीं सिखाया जाता है की कैसे अमीर बनना है, बल्कि ये सिखाया जाता है की कैसे किसी अमीर व्यक्ति या किसी बड़ी कंपनी में काम करना है |

अगर आपको अमीर बनना है तो आपको सबसे पहले अपनी सोच बदलनी होगी, अपने आप से रोज़ ये कहना होगा की हाँ आप एक अमीर व्यक्ति हो और अगर अभी नहीं हो तो एक दिन जरुर बनोगे |

2. अमीर लोग पैसो के लिए काम नहीं करते

हमें स्कूल में  हमेशा यही सिखाया जाता है की पढाई करो फिर एक डिग्री ले लो उसके बाद एक अच्छी सी सरकारी नौकरी या कोई प्राइवेट जॉब कर लो |

लेकिन अमीर लोग ऐसे नहीं सोचते है वो कभी भी पैसो के लिए काम नहीं करते है बल्कि वो कुछ ऐसा मार्ग निकालते है जिससे पैसा उनके लिए काम करें |

एक गरीब हमेशा डर और लालच में जीता रहता है, जब महीने के आखिर में सैलरी मिलती है तो लालच आता है लेकिन जब कभी मन ये विचार आता है की नहीं जॉब छोड़कर एक अपना business शुरू करूँगा तो मन में डर आता है की कही loss हो गया तो ?

इसी डर और लालच के चक्कर में ना तो वो कभी अपनी जॉब छोड़ पाता है और ना ही कोई business शुरू कर पाता  है और हमेशा गरीब ही बना रहता है |

क्या होता है Growth Mindset ?

> Best Motivational Books in Hindi

3.  अमीर लोग संपत्ति ( ASSETS ) जमा करते है

संपत्ति और दायित्व ( liability )में क्या अंतर होता है :- जो भी वस्तु से हमारी जेब में पैसा  लाती है उसे संपत्ति कहते है और जिस भी वस्तु से पैसा हमारी जेब से चला जाता है उसे दायित्व ( liability ) कहते है |

गरीब लोग अपनी पूरी ज़िन्दगी बस दायित्व ( liability ) जमा करते है जिसे वो अपनी संपत्ति मानते है, जैसे की कार, महंगे कपडे, महंगा फोन, आदि |

उन्हें लगता है महंगी कार खरीदने से वो अमीर दिखेंगे लेकिन एक कार संपत्ति नहीं बल्कि एक दायित्व है, क्योंकि उससे हमारी जेब से पैसा सिर्फ जा रहा है, जैसे की पैट्रोल का खर्चा, उसकी maintenance का खर्चा आदि |

आप हमेशा संपत्ति ज्यादा और दायित्व कम रखिये अपना पैसा निवेश कीजिये, mutual फण्ड में लगाइए, real एस्टेट में लगाइए, हमेशा उन ही चीजे पर ध्यान दीजिये जिनसे पैसा का निर्माण हो |

बहुत से लोगो की लोटरी लग जाती है लेकिन कुछ सालो बाद वो फिर गरीब हो जाते है क्योंकि उनको पैसो की समझ नहीं है, मार्किट में पैसा कैसे काम करता है उनको नहीं पता है |

लोटरी के पैसे से वो बहुत सारा दायित्व  खरीद लेते है और फिर उनका खर्चा उठाते उठाते फिर से गरीब हो जाते है, आपको ऐसा नहीं करना है अपने अन्दर पैसो की समझ रखो और अमीर बनो |

4. अपने काम से काम रखो

अमीर लोग हमेशा अपने काम को जानते है की उन्हें अपना पैसा कब, कहाँ और कितना खर्च करना है |

लेकिन गरीब ऐसा नहीं करते वो बिना प्लानिंग और बिना समझ के पैसे को खर्च कर देते है, हमेशा दायित्व  खरीदते है,  सोच में गरीबी रखते है |

आप अपनी जॉब के साथ भी, ये कर सकते है बस आपको पैसे के बारे में समझना होगा, मार्किट के बारे समझना होगा, फिर आप अपनी जॉब के साथ भी अपने काम से काम रख सकते है |

5. रिच डैड पूअर डैड किताब की महत्वपूर्ण बातें

  • सीखने के लिए काम करो, ना की पैसो के लिएअमीर बने
  • प्रतिभा सब कुछ नहीं होती है
  • जीतने का मतलब हार से ना डरना होता है, इसलिए कोशिश करते रहो और हार से मत डरो
  • डर और लालच से बाहर आकर risk उठाना सीखो
  • सोचो मत अभी शुरू करो
  • Source of income एक से ज्यादा रखो
  • passive इनकम बनाना सीखो

रिच डैड पुअर डैड किताब खरीदें :- यंहा क्लिक करें

 

आशा करता हूँ आपको ये बातें जरुर पसंद आई होंगी |अगर हाँ, तो अपने दोस्तों के साथ भी जरुर share करें |

आपका समय देने के लिए धन्यवाद !

Leave a Comment